उत्तर प्रदेश

UP में सिंघम के नाम से मशहूर इंस्पेक्टर अनिरुद्ध सिंह बने DSP

आशीष विक्रम, वाराणसी:यूपी के चर्चित इंस्पेक्टर अनिरुद्ध सिंह को एक और प्रमोशन मिला है। अनिरुद्ध सिंह को इंस्पेक्टर से डिप्टी एसपी के पद पर प्रमोट किया गया हैं। बता दे, चंदौली जिले में अनिरुद्ध सिंह सब इंस्पेक्टर, थानाध्यक्ष और कोतवाल के साथ-साथ एसओजी प्रभारी के रूप में विभिन्न स्थानों पर तैनात रह चुके हैं। फिलहाल अनिरुद्ध सिंह वाराणसी जिले में सीबीसीआईडी में तैनात हैं।

क्राइम ब्रांच की भी संभाल चुके हैं कमान

जानकारी के मुताबिक, अनिरुद्ध सिंह की साल 2001 में पुलिस सेवा में भर्ती पाने के बाद से वाराणसी जिले में तैनाती हुई। इसके बाद उन्हे पहली पोस्टिंग बनारस कोतवाली में मिली। इतना ही नहीं अनिरुद्ध सिंह बनारस, चंदौली, जौनपुर, लखनऊ, मोरादाबाद, प्रयागराज जिले के लगभग तीन दर्जन से अधिक थानों पर थानाध्यक्ष और कोतवाल के रूप में भी कार्यरत रहे हैं। इन थानों में चंदौली जिले का सैयदराजा, अलीनगर व मुगलसराय कोतवाली शामिल है। मोरादाबाद में कठघर, ठाकुरद्वारा व कोतवाली, जौनपुर जिले में जफराबाद व कोतवाली, बनारस में कैंट, लखनऊ में अलीगंज, प्रयागराज में झूंसी जैसे महत्वपूर्ण थाने शामिल हैं। इसके अलावा अनिरुद्ध सिंह ने कई जिलों में क्राइम ब्रांच की भी कमान संभाली है।

झुन्ना राय का किए थे पहला एनकाउंटर

बता दे, अनिरुद्ध सिंह का पहला एनकाउंटर काफी सुर्खियों में रहा था। अनिरुद्ध सिंह ने बनारस में झुन्ना राय का पहला एनकाउंटर किया था। इसके बाद साल 2007 में उन्होने चंदौली में प्रदेश के सबसे बड़े ईनामी नक्सली संजय कोल को मार गिराया था, जिसके बाद ऑउट ऑफ टर्न प्रमोशन के लिए नाम गया था। जनवरी 2011 में इंस्पेक्टर बनने के बाद से कई जिलों में उन्होने सराहनीय काम किए।

जल्द हो सकती है तैनाती

जानकारी के मुताबिक, लोक सेवा आयोग की ओर से उन्हे दो दिन पहले ही जानकारी दी गई है। विभागीय डीपीसी में कुल 84 लोगों के नामों पर मुहर लगी है, जिनमें अनिरुद्ध सिंह का नाम भी शामिल है। जल्द ही आदेश आने के बाद नए जगह पर अनिरुद्ध सिंह की तैनाती की जा सकती है। बता दे, अनिरुद्ध सिंह मूलरूप से जालौन जिले के कोच कस्बे के रहने वाले हैं। इन्होने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई कोच से ही की है। उसके बाद की पढ़ाई इन्होने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री ली है।

द फ्रीडम स्टॉफ
पत्रकारिता के इस स्वरूप को लेकर हमारी सोच के रास्ते में सिर्फ जरूरी संसाधनों की अनुपलब्धता ही बाधा है। हमारी पाठकों से बस इतनी गुजारिश है कि हमें पढ़ें, शेयर करें, इसके अलावा इसे और बेहतर करने के सुझाव दें।
http://thefreedomnews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.