देश

Inspiration: झुग्गी-झोपड़ियों में रहा यह लड़का बन गया वैज्ञानिक, भारत सरकार के साथ कर रहे हैं काम

दुनिया का एक नियम है। जिसने संघर्ष किया है। वो कामयाब जरूर होगा। आज हम आपको एक ऐसे ही इंसान की कहानी से रूबरू करवाने जा रहे हैं। कभी वो झुग्गी-झोपड़ी में रहता था। उनके घर के हालत इतने बुरे थे कि उनके पिता अखबार बेचते थे, मजदूरी करते थे। इससे उनका घर चलता था। खुद वो लड़का साइबर कैफे में बैठकर पढ़ता था। आज वो वैज्ञानिक बन गया है। मेहनत लगी… लेकिन जीत हुई।

इस शख्स का नाम है आर्यन मिश्रा। वो आगे चलकर एस्ट्रोनॉमी के लेक्चरर बने। यहां तक कि आज वो भारत सरकार के साथ बतौर वैज्ञानिक सलाहकार काम कर रहे हैं।

आर्यन मिश्रा दिल्ली की झुग्गी-झोपड़ियों में रहे हैं। घर की आर्थिक हालत ठीक नहीं थी। पिता कभी अखबार बेचते, तो कभी कहीं मजदूरी करते। वो आर्यन को पढ़ाने में कोई कमी नहीं होने देना चाहते थे। आर्यन ने भी पिता का पूरा साथ दिया। उन्होंने भी पढ़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

पढ़ाई के दौरान ही आर्यन ने 14 साल की उम्र में ही एक एस्टेरॉयड की खोज कर डाली। ये एस्टेरॉयड उन्होंने All India Asteroid Search Campaign के तहत खोजा था। जब वो 11 वर्ष के थे, तब उन्होंने टेलिस्कोप की मदद से शनि ग्रह को देखा था। यहीं से वो अंतरिक्ष की दुनिया की तरफ आकर्षित हुए थे। इसी दौरान उन्होंने ये ठान लिया था कि वो आगे चलकर एस्ट्रोनॉट बनेंगे।

आर्यन जैसे लोगों की पहली खासियत ये होती है कि वो हार मानने वालों में से नहीं हैं। उन्होंने देश में रहकर ही कुछ करने की ठानी। पहले बी.एस.सी की और फिर बाद में फिजिक्स में स्नातक किया। आर्यन ने पढ़ाई के साथ-साथ ही एक स्टार्टअप भी शुरू किया। इसका नाम स्पार्क एस्ट्रोनॉमी है। वो कई स्कूल्स में एस्ट्रोनॉमी पर लेक्चर देते हैं। बच्चों को अंतरिक्ष की दुनिया को जानने समझने की लिए मशीनें भी उपलब्ध करवाते हैं।

आर्यन एक एस्ट्रोनॉमी लेक्चरर भी हैं। उन्हें विदेशों में भी स्पीच देने के लिए इंवाइट आया है। कई स्कूल्स और यूनिवर्सिटी में एस्ट्रोनॉमी पर लेक्चर दे चुके हैं वो। एयरोस्पेस में भी उनकी नॉलेज काफी गहन है। वो एयरक्राफ्ट को डिजाइन करने में भारत सरकार की मदद कर चुके हैं। अभी भी वो भारत सरकार के लिए बतौर वैज्ञानिक सलाहकार काम कर रहे हैं। आर्यन जैसे लोगों की कहानी ये बताती कि सपने सच करने के लिए जागकर मेहनत करनी जरूरी होती है।

द फ्रीडम स्टॉफ
पत्रकारिता के इस स्वरूप को लेकर हमारी सोच के रास्ते में सिर्फ जरूरी संसाधनों की अनुपलब्धता ही बाधा है। हमारी पाठकों से बस इतनी गुजारिश है कि हमें पढ़ें, शेयर करें, इसके अलावा इसे और बेहतर करने के सुझाव दें।
http://thefreedomnews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.