राजस्थान

राजस्थान में पुजारी को पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया, BJP का कांग्रेस पर हमला- अब गहलोत से इस्तीफा मांगें

जयपुर ब्यूरो: राजस्थान में करौली जिले के बूकना गांव में मंदिर की जमीन को लेकर दो पक्षों के बीच हुए विवाद में पुजारी को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया गया। पुजारी की इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने पुजारी पर पेट्रोल डालने के मुख्य आरोपित कैलाश मीणा को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस अधीक्षक मृदुल कछ्वा ने बताया कि आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। आग से झुलसे पूजारी ने जयपुर के एसएमएस अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। पुजारी पर पेट्रोल डालने की घटना बुधवार देर शाम को हुई। पुलिस के अनुसार मृतक पुजारी बाबूलाल वैष्णव ने पर्चा बयान में बताया था कि मेरा परिवार 15 बीघा मंदिर माफी जमीन पर खेती करता था। आरोपी कैलाश, शंकर व नमो मीणा ने उसकी जमीन पर जबरन कब्जा कर लिया। पंच-पटेलों ने मंदिर की जमीन पर किसी व्यक्ति द्वारा पुजारी के अलावा मकान आदि नहीं बनाने का फरमान सुनाया था।

पूरे मामले पर केंद्रीय मंत्री ने प्रकाश जावड़ेकर ने राहुल गांधी को घेरा। प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि राजस्थान में एक पुजारी को जिंदा जला दिया गया। वहां चारों ओर दुष्कर्म की घटनाएं हो रही हैं। राहुल गांधी को इसका संज्ञान लेना चाहिए। अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई भी होनी चाहिए।

केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा कि करौली में आज एक मंदिर के पुजारी को गुंडों ने जिंदा जला दिया, जो मंदिर से जुड़ी जमीन पर कब्जा करना चाहते थे। राजस्थान के सभी हिस्सों से दुष्कर्म की घटनाएं दर्ज की जा रही हैं। ऐसे में कांग्रेस नेता राहुल गांधी को राजनीतिक दौरों पर जाने के बजाय इन मुद्दों पर संज्ञान लेना चाहिए। उन्हें या तो राजस्थान सरकार से इस्तीफा देने के लिए कहना चाहिए या इसकी बेहतरी के लिए प्रयास करने चाहिए। उन्हें दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।

बुधवार शाम को कैलाश, शंकर, नमो, किशन, रामलखन व परिवार ने जमीन पर कब्जा कर छप्पर तानने लग गए। बुजुर्ग पुजारी ने उन्हे रोकने का प्रयास किया तो आरोपितों ने बाजरे की कड़बी और पेट्रोल की बोतल डालकर आग लगा दी । इससे पुजारी बुरी तरह झुलस गया। गंभीर स्थिति में पुजारी को जयपुर के एसएमएस अस्पताल पहुंचाया गया, जहां इलाज के दौरान मौत हो गई। मुख्य आरोपित को गिरफ्तार करने के साथ ही अन्य आरोपितों की तलाशी के लिए पुलिस की अलग-अलग टीम गठित की गई है।

द फ्रीडम स्टॉफ
पत्रकारिता के इस स्वरूप को लेकर हमारी सोच के रास्ते में सिर्फ जरूरी संसाधनों की अनुपलब्धता ही बाधा है। हमारी पाठकों से बस इतनी गुजारिश है कि हमें पढ़ें, शेयर करें, इसके अलावा इसे और बेहतर करने के सुझाव दें।
http://thefreedomnews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *