देश

मोटेरा स्टेडियम का नाम PM मोदी के नाम पर किए जाने पर राहुल गांधी ने तंज कसा

ब्यूरो रिपोर्ट: दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम मोटेरा का नाम बदलकर नरेंद्र मोदी स्टेडियम कर दिया गया है। अब कांग्रेस ने इसे लेकर सरकार पर निशाना साधा है। वहीं कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोटेरा स्टेडियम का नाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर किए जाने को लेकर तंज कसा है। उन्होंने अपने ट्वीट में बीसीसीआई के सचिव जय शाह का जिक्र करते हुए लिखा, ”सच कितनी खूबसूरती से खुद को प्रकट करता है। नरेंद्र मोदी स्टेडियम। जय शाह की अध्यक्षता में अडानी एंड और रिलायंस एंड” उन्होंने अपने ट्वीट में #HumDoHumareDo का इस्तेमाल किया।

गौरतलब है कि राहुल गांधी ने बजट पर चर्चा के दौरान किसानों का जिक्र करते हुए कहा था कि मोदी सरकार कुछ करीबी उद्योगपतियों के लिए काम कर रही है। इसी दौरान उन्होंने ‘हम दो हमारे दो’ के जनसंख्या नियंत्रण वाले नारे को इस संदर्भ में दोहराया था। आपको बता दें, आज ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने स्टेडियम का उद्घाटन किया है। इस मौके पर गृहमंत्री अमित शाह और खेल मंत्री किरेन रीजीजू समेत कई अन्य हस्तियां मौजूद रही। भारत और इंग्लैंड के बीच आज स्टेडियम में मैच खेला जा रहा है। इस स्टेडियम में एक लाख 32 हजार दर्शक बैठ सकते हैं।

राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस के कई नेताओं ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा, ‘मोटेरा स्टेडियम से सरदार पटेल का नाम हटा कर नरेंद्र मोदी रखना आजादी के महानायक का घोर अपमान है। आपके दम्भ और अहंकार की कोई तो सीमा होगी मोदी जी? शर्म कीजिए’

इसके अलावा गुजरात कांग्रेस के वर्किंग प्रेसिडेंट हार्दिक पटेल ने कहा, ‘दुनिया के सबसे बड़े अहमदाबाद स्थित सरदार पटेल क्रिकेट स्टेडियम का नाम बदलकर नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम रखा गया है, क्या यह सरदार पटेल का अपमान नहीं हैं ? सरदार पटेल के नाम पर मत माँगने वाली भाजपा अब सरदार साहब का अपमान कर रही हैं। गुजरात की जनता सरदार पटेल का अपमान नहीं सहेगी। भारत रत्न, लौह पुरुष सरदार पटेल ने आरएसएस पर प्रतिबंध लगाया था और उसी कारण आरएसएस के चेले सरदार पटेल का नाम मिटाने का हर संभव प्रयास कर हैं। बाहर से मित्रता पर भीतर से बैर, यह व्यवहार भाजपा का सरदार पटेल से हैं। एक बात याद रखिएगा की सरदार पटेल का अपमान नहीं सहेगा हिंदुस्तान।’

द फ्रीडम स्टॉफ
पत्रकारिता के इस स्वरूप को लेकर हमारी सोच के रास्ते में सिर्फ जरूरी संसाधनों की अनुपलब्धता ही बाधा है। हमारी पाठकों से बस इतनी गुजारिश है कि हमें पढ़ें, शेयर करें, इसके अलावा इसे और बेहतर करने के सुझाव दें।
http://thefreedomnews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.