arvind kejriwal
देश

BJP हिन्दुओं की पार्टी है तो कम से कम उन्हें ही नौकरी दिला दो – अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली: रोजगार बीजेपी के चुनावी मुद्दों में से एक था। बीजेपी ने पूर्ववर्ती सरकारों को इस मामलें में खूब आड़े हांथों लिया था। लेकिन खुद सरकारी एजेंसियां मानती हैं कि रोजगार देने में मोदी सरकार विफल रही है। रोजगार के मुद्दे पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र की सत्ता में काबिज बीजेपी पर तंज कसा है और कहा है कि बीजेपी सिर्फ वोट पाने के लिए हिन्दू राग अलापती है। असलियत में हिन्दुओं के कल्याण की दिशा में बीजेपी कोई कदम नहीं उठाती है। केजरीवाल ने सोशल मीडिया पर ट्वीट किया है, “भाजपा कहती है कि वो हिंदुओं की पार्टी है। तो कम से कम हमारे हिंदुओं के बच्चों की ही नौकरी लगवा दो? हिंदुओं के बच्चों को ही अच्छी शिक्षा दिलवा दो? किसी के लिए कुछ तो करो।” बता दें कि लोकसभा चुनाव 2014 के प्रचार के दौरान नरेंद्र मोदी ने हरेक साल 2 करोड़ लोगों को नौकरी देने का वादा किया था लेकिन ये वादा अब तक पूरा नहीं हुआ है। केजरीवाल ने कहा कि अगर सभी धर्म के लोगों को अच्छी शिक्षा, नौकरी नहीं दे सकते तो कम से कम हिन्दुओं को ही दे दें।

अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी चुनावी मोड में

दरअसल, देश में अब चुनावी माहौल आ रहा है। ऐसे में सभी राजनीतिक दल एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाने लगे हैं। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी चुनावी मोड में आ चुके हैं। पीएम मोदी ने शनिवार को आजमगढ़ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर आरोप मढ़ा कि वो मुस्लिम पुरुषों की पार्टी है और मुस्लिम महिलाओं की फिक्र नहीं करती है। इसी बीच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के हवाले से बीजेपी के एक विधायक द्वारा कहा गया कि अमित शाह ने कहा है कि दिसंबर तक अयोध्या में राम मंदिर बनने लगेगा। हालांकि, कुछ देर के बाद बीजेपी ने इसका खंडन किया लेकिन तब तक राम मंदिर से जुड़ी खबर फैल चुकी थी। बता दें कि बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी भी कई मौकों पर इशारा कर चुके हैं कि इस साल के अंत तक अयोध्या में राम मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा।

वोटरों का धार्मिक और जातीय ध्रुवीकरण शुरु

चुनाव को देखते हुए वोटरों का धार्मिक और जातीय ध्रुवीकरण शुरु हो गया है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर सभी दलों के शीर्ष नेता शामिल हैं। कुछ दिनों पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ बैठक कर फीडबैक लिया था। तब एक अखबार ने लिखा था कि उस बैठक में राहुल गांधी ने कांग्रेस को मुस्लिमों की पार्टी कहा है।

चुनाव को देखते हुए वोटरों का धार्मिक और जातीय ध्रुवीकरण शुरु हो गया है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर सभी दलों के शीर्ष नेता शामिल हैं। कुछ दिनों पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ बैठक कर फीडबैक लिया था। तब एक अखबार ने लिखा था कि उस बैठक में राहुल गांधी ने कांग्रेस को मुस्लिमों की पार्टी कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.