लाइफस्टाइल

अगर सपने में आ रही हैं मां दुर्गा, तो इस बात का संकेत है यह..

इस दुनियां में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसे रात में सपने ना आते हो सपना एक ऐसी चीज हैं जो हमें लगभग रोज ही आता हैं जब कोई सपना देखता हैं तो उसे कई अच्छी, बुरी और अजीबोगरीब चीजें दिखाई देती हैं ऐसा कहा जाता हैं कि सपने में दिखाई देने वाली इन सभी चीजों के कुछ ना कुछ मायने होते हैं कुछ लोग तो यह भी कहते हैं कि आपके सपने में जो भी दिखाई देता हैं वो आने वाले कल को लेकर एक संकेत होता हैं यह सपने यह बताने की क्षमता रखते हैं कि आपके आने वाले कल में क्या क्या अच्छा या बुरा घटित होने वाला हैं।

आप लोगो ने आज तक अपने सपने में कई सारी चीजें देखी होगी. कुछ भाग्यशाली लोगो को तो सपने में भगवान तक दिखाई दे जाते हैं यदि आपको भी सपने में भगवान दिखते हैं तो आपके मन में यह विचार जरूर आता होगा कि आखिर इस बात का क्या मतलब हैं भगवान का आपके सपने में आने का क्या मकसद हो सकता हैं स्वप्न शास्त्र की माने तो सपने में भगवान का आना एक अच्छा और बुरा दोनों संकेत हो सकता हैं ये इस बात का निर्भर करता हैं कि आपने सपने में भगवान का कहाँ और किस रूप में देखा हैं कई बार भगवान आपके सपने में आकर आपको आने वाले बुरे वक़्त के लिए आगाह भी करते हैं तो कई बार वे ये संकेत भी दे जाते हैं कि आने वाले समय में आपके साथ कुछ अच्छा होने वाला हैं।

सपने में देवी माँ के आने का अर्थ – यदि आपके सपने में देवी माँ लाल कपड़े पहने और चेहरे पर मुस्कान लिए आती हैं तो समझ जाइए कि आपकी लाइफ में कुछ अच्छा होने वाला हैं ये संकेत हैं कि आपके जीवन में खुशियाँ आने वाली हैं– यदि सपने में देवी माँ शेर पर सवार दिख जाए तो समझ ले कि आपके भाग्य के तारे बुलंद होने वाले हैं इसका मतलब ये हैं कि आपके दुर्भाग्य वाले दिन अब ख़त्म हुए और सौभाग्य वाले दिन शुरू हो गए हैं आपका भाग्य अब इतना प्रबल हो चूका हैं कि आप जिस भी काम में हाथ डालोगे वो आसानी से हो जाएगा।

यदि आपको सपने में देवी मा रोटी हुई या उदास दिखाई दे या आप उन्हें सफ़ेद या काले वस्त्र में देखे तो समझ जाइए कि ये आने वाले बुरे वक़्त का संकेत हैं. आपको संभलकर रहना चाहिए और खुद को किसी भी प्रकार की अनहोनी से बचाना चाहिए यदि आपको सपने में मा रोटी हुई या उदास दिखाई दे या आप उन्हें सफ़ेद या काले वस्त्र में देखे तो समझ जाइए कि ये आने वाले बुरे वक़्त का संकेत हैं आपको संभलकर रहना चाहिए और खुद को अनहोनी से बचाना चाहिए

द फ्रीडम स्टॉफ
पत्रकारिता के इस स्वरूप को लेकर हमारी सोच के रास्ते में सिर्फ जरूरी संसाधनों की अनुपलब्धता ही बाधा है। हमारी पाठकों से बस इतनी गुजारिश है कि हमें पढ़ें, शेयर करें, इसके अलावा इसे और बेहतर करने के सुझाव दें।
http://thefreedomnews.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *